वही पिता होता है !

Poems

ऐड़ी घिसी चप्पल और बनियान में छेद लिए जो तुम्हे पैंट कोट ले देता है…
वही पिता होता है !

तुम्हारे सुनहरे भविष्य के लिए जो आज मेहनत के बीज बोता है…
वही पिता होता है !

खुद का बाप मर जाए तभी नहीं रोता क्योंकि भाइयों को संभालना होता है…
वही पिता होता है !

पत्नी अगर जीवन छोड़ जाए तब भी जो नहीं रोता क्योंकि बच्चों को सहारा देना होता है…
वही पिता होता है !

अपनी चादर तुम पर डाल कर जो खुद सिकुड़ के सोता है…
वही पिता होता है !

कमर में तेज दर्द होने के बावजूद जो हसीं-ख़ुशी घोड़ा बन जाए…
वही पिता होता है !

दाढ़ी की क्रीम ख़त्म हो जाने पर कई बार साबुन से झाग बनाने वाला जो होता है…
वही पिता होता है !

इतना पैसा ना होने के बावजूद जो तुम्हारी मेडिकल/इंजीनियरिंग की पढ़ाई का बोझ ढोता है…
वही पिता होता है !

परीक्षा के परिणाम आने पर माँ तुम्हे पुचकारती है लेकिन जो चुपचाप मिठाई का डिब्बा लाता है…
वही पिता होता है !

माँ बनने पर माँ की खूब सेवा होती है (होनी भी चाहिए ) लेकिन अस्पताल के बरामदे में बेचैनी से घूमने वाला जो होता है….
वही पिता होता है !

राम भले ही कौशल्या के पुत्र हो लेकिन उनके व्योग में जो हर पल मर रहा होता है…
वही पिता होता है !

देवकी यशोदा धन्य लेकिन सिर पर टोकरी में कृष्ण को उठाये जो यमुना की लहरों से लड़ रहा होता है…
वही पिता होता है !

लड़की की शादी में सब भावुक होते है लेकिन दिल में आसूं छुपाए जो बेटी की पीठ थपथपा रहा होता है…
वही पिता होता है…

बेटे को चाहे कभी-कभी आँखें दिखाए बेटियों को राजकुमारी सा महसूस कराये….
वही पिता होता है…. वही पिता होता है !

हर पिता को मेरा शत-शत प्रणाम !

चित्र स्त्रोत-sadhguru, vivahsanyog, vipasana-vidushika.blogspot.com, wallpaperstudio10.com

1 thought on “वही पिता होता है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *